रविवार, अक्टूबर 2, 2022
होमRajasthanफिजां में गूंजे लोकगीत भंगड़े-गिद्धे ने मचाई धूम-राजस्थान पंजाबी भाषा अकादमी के...

फिजां में गूंजे लोकगीत भंगड़े-गिद्धे ने मचाई धूम-राजस्थान पंजाबी भाषा अकादमी के कार्यक्रम में साकार हो उठी पंजाबी संस्कृति

- Advertisement -
- Advertisement -

श्रीगंगानगर। फिजां में गूंज उठे पंजाबी लोक गीत….पारंपरिक परिधान में पेश भंगड़े और गिद्धे ने धूम मचा दी। अनूठे शबदों के जरिए पंजाबी के कवियों ने अपनी भावनाएं श्रोताओं तक पहुंचा कर वातावरण को रोमांचित कर दिया। मौका था राज्य के कला एवं संस्कृति विभाग के तत्वावधान में राजस्थान पंजाबी भाषा अकादमी की ओर से पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए सादुलशहर ब्लॉक स्तरीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का। दो एमएल नाथांवाली स्थित बीडीआईएस स्कूल ऑडिटोरियम में आयोजित इस अनूठे कार्यक्रम में मौजूद हर कोई झूम उठा। कार्यक्रम में पंजाबी संस्कृति साकार हो उठी। मुख्य अतिथि सादुलशहर विधायक जगदीश जांगिड़ ने मातृभाषा के साथ जुड़ाव पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि अगर हम अपनी मातृभाषा को भूल जाएंगे तो अपनी विरासत को भी भूल जाएंगे। मातृभाषा के साथ जुड़े रहकर ही विरासत को जिंदा रखा जा सकता है। हर व्यक्ति को अपनी मातृभाषा को जीवंत रखने के लिए योगदान देनी चाहिए। उन्होंने पंजाबी लाइब्रेरी विकसित करने पर जोर दिया। पंचायत समिति सादुलशहर के प्रधान निशान सिंह संधू ने कहा कि पंजाबी भाषा हमेशा फले-फूले, यही कामना है। इससे पूर्व कार्यक्रम का आगाज सिमरजीत सिंह ने गीत अरदास करां…सुनाकर किया। शमिन्दर सिंह ने लोकगीत के जरिए समां बांध दिया। भव्या छाबड़ा ने शानदार नृत्य के दौरान मनमोहक मुद्राओं से सबको अचंभित कर दिया। जब मंच पर राज्य स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित सरकारी शिक्षक भंगड़े की प्रस्तुति के लिए पहुंचे, तो मानो धूम ही मच गई। सरकारी शिक्षकों की टीम ने भंगड़े की शानदार प्रस्तुति दी। बीडीआईएस की टीम ने गिद्धा पेश कर रोमांचित कर दिया। रणजीत सिंह रमाणा ने पंजाबी वर्णमाला का गीत माल सुच्चे मोतियां वाली…..तथा नही रीसां नहीं रीसां मेरे सोहने राजस्थान दीयां…..सुनाकर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि पंचायत समिति श्रीगंगानगर के प्रधान सुरेन्द्रपाल सिंह बराड़, भारतीय चेरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन डॉ. सोहनलाल सिहाग तथा अति जिला परियोजना शिक्षा अधिकारी अरविन्दर सिंह, गर्ल्स कॉलेज सादुलशहर के आचार्य प्रो. डॉ. एचएस कलसी, बीडीआईएस के श्याम जैन, नवदीप सिंह मान, गुरतेज गिल, कुलदीप मान, मनोज सुथार, सुखविंदर लालघरिया, विजय गोयल, राजेंदर सिंह, तेज प्रताप सिंह, तनवीर सिधु, बबंदीप ढिल्लो, भुवनेश बत्रा, जसवीर मिसन, जितेंद उप्पल, मंगल सिंह, परंजीत सिंहए अमरजीत लहर आदि मौजूद रहे। जिला कलक्टर की प्रतिनिधि के रूप मेें मौजूद महिला एवं बाल विकास विभाग की उप निदेशक रीना छींपा ने आभार व्यक्त किया। राजस्थान पंजाबी भाषा अकादमी के सचिव डॉ. एनपी सिंह ने कार्यक्रम में पहुंचे लोगों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों तथा ब्लॉक में अकादमी की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी का हिस्सा आज का कार्यक्रम है। कवि सम्मेलन में रूप सिंह राजपुरी, मीनाक्षी आहूजा, परमजीत कौर रीत तथा ममता आहूजा ने विविध रंग बिखेरे। मंच संचालन मीनाक्षी आहूजा एवं मुकेश मल्होत्रा ने किया।

खबरे और भी है...

RELATED ARTICLES

Most Popular